पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने दाख़िल किया नामांकन,चुनावी सरगर्मी हुई तेज

0
170
Spread the love | Share it


जौनपुर-आज शहर दिन भर जान के प्रकोप से जो जूझता रहा क्योंकि मल्हनी उपचुनाव को लेकर हो रहे नामांकन को देखते हुए प्रशासन ने बैरीकेटिंग कर रखा थी जिसकी वजह से कचहरी जाने के सारे रास्ते लगभग बंद थे।

आज जौनपुर जिले के कद्दावर नेता पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने मल्हनी उपचुनाव के लिए अपना नामांकन निर्दल प्रत्याशी के तौर पर दाख़िल किया।
नामांकन के दौरान एमएलसी जौनपुर बृजेश सिंह ‘प्रिसू’ लगातार पूर्व सांसद के साथ थे।

पत्रकारों का भारी हुजूम कलेक्ट्री कचहरी परिसर में था।पत्रकारों के सवालों के जवाब में पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने कहा की पिछले 8 वर्षों से मल्हनी का विकास रुक गया है जब मैं विधायक था तब वहां नदी पर पुल सड़कें बिजली की समस्या पानी की समस्या और भी बहुत सारी समस्याएं थी जिनको हमने दूर किया। पत्रकारों के पूछने पर की आपकी लड़ाई किससे है तो पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने जवाब दिया कि यह मेरी लड़ाई नहीं यह मल्हनी की जनता की लड़ाई है और जनता ही इसका उचित जवाब देगी क्योंकि मैंने हमेशा जात और धर्म से ऊपर उठकर बिना नाम पूछे समस्याओं का समाधान करने की भरसक कोशिश की है।मेरे लिए पूरी मल्हनी की जनता ही मेरी है वह चाहे किसी भी जाति धर्म की हो और उन्होंने कहा कि मेरी तरफ से जनता चुनाव लड़ रही है और समय आने पर इसका परिणाम भी सामने आएगा।

फिलहाल परिणाम चाहे जो भी हो इस बार पूर्व सांसद धनंजय सिंह के चुनाव अभियान को देखकर लग रहा है कि इस बार वो चुनाव अभियान में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। मल्हनी के ज्यादातर युवा धनंजय सिंह के प्रचार में दिन रात एक किए हुए हैं और क्षेत्र की जनता,बड़े बुजुर्ग यह कह रहे है कि धनंजय सिंह तो सबके लिए हर वक्त हर समय खड़े रहते हैं तो इस बार हम अपने घर के लड़के को ही वोट देंगे।वही दूसरी तरफ़ पूर्व सांसद की धर्म पत्नी श्रीमती श्रीकला धनंजय सिंह ने चुनावी प्रचार में आकर चुनाव प्रचार की रफ़्तार बढ़ा दी है और जिस तरह से बड़े बुज़र्गो का आशीर्वाद उन्हें मिल रहा है वह इस बात संकेत है कि इस बार धनंजय सिंह से मल्हनी में मुक़ाबला अन्य प्रत्याशियों के लिए काफ़ी कठिन साबित होने वाला है क्यूँकि धनंजय सिंह के पास ख़ुद का पचास हज़ार से ज़्यादा का वोट हैं जो वो हमेशा पाते आये हैं और हर वर्ग में उनकी गहरी पकड़ है व हर वर्ग के युवा उनके लिए जी जान से मैदान में डटे हुए हैं।

आज ही सपा से लकी यादव ने अपना नामांकन दाखिल किया पत्रकारों के पूछने पर लकी यादव ने कहा कि मैं अपने स्वर्गीय पिता पारसनाथ यादव के नाम पर वोट मांगूंगा।फ़िलहाल सपा के पास जातीय समीकरण के अलावा अपनी उपलब्धि बताने को कुछ नहीं है और लकी यादव के स्वर्गीय पिता के विधायक और मंत्री रहते लकी द्वारा पूर्व में मल्हनी के लोगों से किये गए व्यवहार की भी चर्चा है।

कांग्रेस से मंगला गुरु प्रत्याशी हैं जिनका कुछ भी मंगल होते दिख नहीं रहा है वही बसपा के प्रत्याशी भी अपने परम्परागत वोटरों के दम पर मैदान में हैं।


भाजपा पिछली बार चौथे स्थान पर थी वो भी तब जबकि प्रत्याशी मल्हनी से था किंतु इस बार भाजपा को मल्हनी से कोई प्रत्याशी ही नहीं मिला और भाजपा को बरसठी निवासी प्रत्याशी को उतारना पड़ा जो पूर्व में बसपा से होर्डिंग भी लगा कर मल्हनी में दौड़ लगा चुके हैं लेकिन वहाँ बात नहीं बनी लेकिन अब भाजपाई हैं।

फ़िलहाल इस बार के चुनाव को देखते हुए लगता है की इस बार मल्हनी में सारे जातीय समीकरण ध्वस्त हो जाएँगे और मल्हनी योग्य उम्मीदवार का चयन करेगी।

सभी प्रत्याशियों के अपने-अपने दावे हैं सभी जीत की हुंकार भर रहा है अब यह तो 3 तारीख को ही पता चलेगा कि कौन कितने पानी में है।


Spread the love | Share it

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here